बाइनरी ऑप्शन टिप्स

Mutual Fund में निवेश करने के तरीके क्या है?

Mutual Fund में निवेश करने के तरीके क्या है?
4. डेट या इक्विटी में कौन बेहतर

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है इसके प्रकार और इसमें निवेश कैसे करें - Mutual Fund In Hindi

क्या आपने म्यूचु्अल फंड्स में नॉमिनी बनाया है, जानिए यह क्यों बहुत जरूरी है

अगर आपने म्यूचुअल फंड में ऑनलाइन इनवेस्ट किया है तो आप म्यूचुअल फंड स्टेटमेंट देखकर यह Mutual Fund में निवेश करने के तरीके क्या है? पता लगा सकता है कि आपने नॉमिनेशन किया है या नहीं।

Nomination in Mutual Funds: क्या आप म्यूचुअल फंड्स (Mutual Funds) में इनवेस्ट करते हैं? दरअसल, म्यूचुअल फंड्स में सिर्फ निवेश करना काफी नहीं है। इसमें सही तरीके से निवेश करना बहुत जरूरी है। तभी आपको इसका पूरा फायदा मिलेगा। सेबी (Sebi) ने अक्टूबर में म्यूचुअल फंड इनवेस्टर के लिए किसी को नॉमिनी बनाना या नॉमिनेशन का विकल्प नहीं चुनना अनिवार्य बना दिया है। इसका मतलब है कि आपको नॉमनी बनाना होगा या आपको बताना होगा कि आप किसी को नॉमिनी नहीं बनाना चाहते हैं।

एक्सपर्ट्स का कहना है कि म्यूचुअल फंड निवेशक के लिए नॉमनी बनाना बहुत जरूरी है। न्यू फोलियो के लिए सेबी का उपर्युक्त नियम 1 अक्टूबर, 2022 से लागू हो चुका है। नॉमिनेशन करने से म्यूचुअल फंड इनवेस्टर की मौत के बाद नॉमनी को आसानी से स्कीम का पैसा मिल जाता है। नॉमिनी नहीं होने पर स्कीम के पैसे पर क्लेम करने की प्रक्रिया काफी जटिल है।

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है प्रकार, निवेश कैसे करें (Mutual Mutual Fund में निवेश करने के तरीके क्या है? Fund In Hindi)

Mutual Fund In Hindi: अगर आप पैसे से पैसा कमाने में रूचि रखते हैं तो Mutual Fund का नाम आपने जरुर सुना होगा, टीवी में आपने Mutual Fund के कई सारे विज्ञापन भी देखे Mutual Fund में निवेश करने के तरीके क्या है? होंगे पर क्या आप जानते हैं आखिर Mutual Fund क्या है, म्यूच्यूअल फण्ड की शुरुवात कब हुई, म्यूच्यूअल फण्ड के प्रकार, म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश कैसे करें और म्यूच्यूअल फण्ड के फायदे तथा नुकसान क्या हैं.

अगर आप Mutual Fund में निवेश करने के तरीके क्या है? उपरोक्त सारी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप एकदम सही लेख पर आये हैं. आज के इस लेख में हम आपको Mutual Fund से जुडी तमाम सारी जानकारी प्रदान करवाने वाले हैं. जिससे कि आपको Mutual Fund में Mutual Fund में निवेश करने के तरीके क्या है? निवेश करने में आसानी हो.

म्यूच्यूअल फण्ड के द्वारा आप अपने पैसों को ऐसे Fund House में निवेश करते हैं जहाँ आपके पैसों को मैनेज करने का काम फण्ड मैनेजर करते हैं. म्यूच्यूअल फण्ड में कई सारे निवेशक पैसे निवेश करते हैं. फण्ड मैनेजर सभी निवेशकों के पैसों को अलग – अलग जगह निवेश कर देते हैं और profit को सभी निवेशकों में निवेश के आधार पर बाँट दिया जाता है.

म्यूचुअल फंड में निवेश से पहले कर लें टैक्स का आकलन, निवेश करना हो जाएगा आसान

म्यूचुअल फंड में निवेश से पहले कर लें टैक्स का आकलन, निवेश करना हो जाएगा आसान

हर निवेशक अपनी कमाई पर अधिक से अधिक रिटर्न हासिल करना चाहता है। इसमें म्यूचुअल फंड एक ऐसा विकल्प है जिसमें सावधि जमा (एफडी) और अन्य तय निवेश विकल्पों पर ब्याज की तुलना में ज्यादा रिटर्न की संभावना रहती है। साथ ही सीधे शेयरों में निवेश के मुकबाले म्यूचु्अल फंड में जोखिम भी कम होता है। लेकिन म्यूचुअल फंड की कमाई भी टैक्स के दायरे में आती है। इसमें अवधि और फंड के प्रकार के हिसाब से टैक्स लगता है। म्यूचुअल फंड में इक्विटी और डेट के लिए टैक्स देनदारी अलग-अलग होती है। ऐसे में निवेश से पहले म्यूचुअल फंड में टैक्स का आकलन करना आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

बच्चों की शिक्षा के लिए निवेश का बेहतर विकल्प है Mutual Funds, जानिए कौन सा है सही

Updated Nov 11, 2022 | 08:14 PM IST

Investment for Education-istock

बच्चों की शिक्षा के लिए म्यूचुअल फंड्‌स में भी निवेश कर सकते हैं।

बच्चों की शिक्षा मंहगी होती है। भारत तथा विदेश में शिक्षा की उच्च लागत के कारण परिवार की बचतों पर चोट पहुंच सकती है। कई माता-पिता अपने बच्चे की शिक्षा के लिए शिक्षा ऋण (एजुकेशन लोन) लेते हैं। लोन के अलावा, म्यूचुअल फंड (Mutual Funds) ऐसा अन्य क्षेत्र है जिस पर अपने बच्चे की शिक्षा की फंडिंग करने के लिए विचार Mutual Fund में निवेश करने के तरीके क्या है? कर सकते हैं। म्यूचुअल फंड्स में एक अच्छी निवेश योजना से आपको अपने बच्चे को सर्वश्रेष्ठ संभावित शिक्षा दिलाने के जीवन के महत्वपूर्ण लक्ष्य को प्राप्त करने में सहायता मिल सकती है। बच्चों की शिक्षा के उद्देश्य से निवेश के लिए (Investment for Education) सही म्यूचुअल फंड कैसे चुने, आइये आपको यह जानकारी देते हैं।

डायवर्सिफाइड ब्लूचिप इक्विटी फंड्स

डायवर्सिफाइड ब्लूचिप इक्विटी फंड अनेक दीर्घकालिक लक्ष्यों जैसे बच्चों की शिक्षा और सेवा निवृत्ति के लिए आदर्श हो सकते हैं। इस निवेश स्कीम के अंतर्गत ऐसी कंपनियों के शेयरों में निवेश किया जाता है जो संबंधित सेक्टर्स में अग्रणी हैं, और इस प्रकार से आपको विकासशील अर्थव्यवस्था के लाभ मिल जाते हैं। किसी खास उद्योग पर फोकस करने वाली स्कीमों की तुलना में डायवर्सिफाइड फंड्स में जोखिम एलिमेंट कम होते हैं। इक्विटी स्कीमों के ऐतिहासिक परफॉर्मेंस के आधार पर, आप अपने निवेश पर लगभग 12% दीर्घकालिक सीएजीआर की उम्मीद कर सकते हैं।

जैसा कि नाम से पता लगता है, इन स्कीमों में अग्रणी लार्ज, मिड तथा स्मॉल-कैप कंपनियों में निवेश किया जाता है। मार्केट कैप साइज के अनुसार, इन फंड्स के अंतर्गत निवेश अनुपातों को एडजस्ट किया जा सकता है, और इस प्रकार आप मार्केट की स्थिति के अनुसार सर्वश्रेष्ठ संभावित रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। इस फंड की दीर्घकालिक सीईएजीआर 9% और अधिक की है।

बैलेंस्ड एडवेंटेज फंड्स

ये फंड हाइब्रिड म्यूचुअल फंड्स Mutual Fund में निवेश करने के तरीके क्या है? होते हैं जो जारी मार्केट दशाओं के आधार पर इक्विटी और डेट में आवंटन को परिवर्तित करने में समर्थ होते हैं। साथ ही इन्हें डायनामिक एसेट एलोकेशन फंड्स भी कहा जाता है, और इनसे दोनो एसेट श्रेणियों के सर्वश्रेष्ठ परिणाम मिलते हैं। उनके ऐतिहासिक परफॉर्मेंस को देखते हुए, आप स्कीमों की इस श्रेणी से दीर्घकालिक 8-12% की सीएजीआर की उम्मीद कर सकते हैं।

उपयुक्त फंड्स को चुनते समय कुछ महत्वपूर्ण बातों को ध्यान में रखने से सहायता मिलेगी। सही फंड को चुनने में सहायता करने के लिए आइये कुछ महत्वपूर्ण पैरामीटर्स पर विचार करते हैं।

परफॉर्मेंस ट्रैक रिकार्ड:-

फंड्स को चुनते समय, कम से कम 5 वर्ष के ट्रैक रिकार्ड पर विचार करें। लेकिन, दीर्घकालिक ट्रैक रिकार्ड और Mutual Fund में निवेश करने के तरीके क्या है? भी अच्छा रहता है क्योंकि इससे निवेशकों को रिटर्न की भावी दर का अंदाजा लगाने में और पिछले मार्केट चक्रों के दौरान इसमें फेरबदल करने की योग्यता में सहायता मिलती है।

व्यय अनुपात

यह प्रशासनिक तथा प्रचालन लागतों को कवर करने के लिए फंड द्वारा निवेशकों से वसूली जाने वाली प्रतिशत-आधारित फीस है। Mutual Fund में निवेश करने के तरीके क्या है? किसी फंड का व्यय अनुपात इसके नेट रिटर्न्स को प्रभावित करता है। निम्न व्यय अनुपात से आपके पोर्टफोलियो में अधिक यूनिट्स आ सकेंगे जिससे आपके रिटर्न्स में बढ़ोतरी होगी। दीर्घकाल में, इन अतिरिक्त यूनिट्स से संबंधित कम्पाउंडिंग लाभ से आपके रिटर्न्स में महत्वपूर्ण रूप से बढ़ोतरी हो सकती है।

फंड के मैनेजमेंट के लिए फंड मैनेजर्स उत्तरदायी होते हैं तथा इसकी परफॉर्मेंस में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। स्कीम को चुनने से पहले, अपने फंड मैनेजर और उसकी निवेश विचार प्रक्रिया की जानकारी प्राप्त कर लें। आप मार्केट तथा उम्मीदों के संबंध में उनकी सामान्य कमेंट्री को जानने के लिए फंड हाउस की फैक्टशीट्स को भी देख सकते हैं। इंटरव्यूज़ तथा न्यूज पोर्टल्स अन्य साधन हैं जिनसे आप फंड मैनेजर के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

म्यूचुअल फंड निवेश पर इन पांच तरीकों से पाएं ज्यादा रिटर्न

म्यूचुअल फंड निवेश पर इन पांच तरीकों से पाएं ज्यादा रिटर्न

म्यूचुअल फंड निवेश बाजार जोखिम के अधीन हैं लेकिन कुछ बातों का ध्यान रखकर आप अपने निवेश पर ज्यादा रिटर्न पा सकते हैं।
बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना काल में म्यूचुअल फंड्स निवेशकों को अच्छा फायदा हुआ है। हालांकि, यह स्थिति हमेशा Mutual Fund में निवेश करने के तरीके क्या है? नहीं रह सकती है क्योंकि बाजार बड़ी गिरावट के बाद रिकॉर्ड ऊंचाई पर काफी कम समय में पहुंच गया है। अब निवेशकों को निवेश करने से पहले कुछ बातों का ख्याल रखना होगा, तभी बेहतर रिटर्न मिल सकता है।

1. डायरेक्ट प्लान का चुनाव करें

ट्रांसजेंड कंसल्टेंट्स के निदेशक कार्तिक झावेरी ने बताया कि निवेशकों को म्यूचुअल फंड के रेग्युलर प्लान की बजाय डायरेक्ट प्लान में निवेश करना चाहिए क्योंकि इस पर 1 से 1.5 फीसदी अधिक रिटर्न मिलता है। ऐसा इसलिए कि निवेशकों को डायरेक्ट प्लान में ब्रोकरेज नहीं देना होता है। हालांकि, यह एक प्लान से दूसरे प्लान पर निर्भर करता है।

रेटिंग: 4.26
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 80
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *